दोस्तों स्वच्छ भारत अभियान पर कविता जरूर पढ़ें

स्वच्छ भारत अभियान कविता! दोस्तों स्वच्छ भारत अभियान हमारे प्रधानमंत्री द्वारा लिया गया एक संकल्प है. वो चाहते हैं कि 2019 तक भारत स्वच्छ बन जाये. हर साल गंदगी कि वजह से हमारे देश में लाखों लोगों की मौत हो जाती है.

स्वच्छता अभियान पर कविता

कूड़े के ढेर, बदबू वाली नालिया, कचरे का कुप्रबंधन ये सब मिलके देश की हवा और वातावरण को जहरीला बना रहें हैं. दोस्तों सरकार के संकल्प के अलावा हमारा खुद का संकल्प होना चाहिए कि हम अपने आस-पास स्वच्छता रखें और स्वच्छता के इस यज्ञ में आहुति दें.

स्वच्छ भारत अभियान पर कविता in hindi
स्वच्छ भारत अभियान

स्वच्छ भारत अभियान कविता:

स्वच्छता संकल्प हो
स्वच्छ हो ज़मीन ये स्वच्छ आसमान हो
गौरव बढ़े इस देश का
ऊँचा भारत का स्वाभिमान हो
स्वच्छता संकल्प हो
दूजा नहीं विकल्प हो
हर नगर साफ़ हो गाँव हर साफ़ हो
हर नदी निर्मल बहे
स्वच्छता हो हर जगह
कूड़े का ढेर ना हो कहीं
दम किसी का ना घुटे
स्वच्छ साफ़ हो ये हवा
जहर नसों में ना घुलें
स्वच्छता जिम्मेदारी हो हर कंधे की
हर रोज हो गंदगी पे वार
देश के स्वाभिमान की रक्षा
करें मिलके सभी
बातें नहीं अब काम
अब विश्व में भारत का स्वच्छता से नाम हो
है मिशन 2019 क्यों
संकल्प लो हर रोज का
सब मिल बढ़े सब मिल चले
हम सब अगर साथ हों
तो देश का विकास हो
सत्य, अहिंसा हो हर जगह पे
सड़के ही नहीं मन भी सभी साफ़ हों
धर्म का हो आचरण
पर नाम पे धर्म के ना हो अन्याय फिर
आतंक का भी अंत हो
स्वतंत्रता भी अनंत हो
सब मिल चले स्वच्छ भारत अभियान से
हो सफल देश को गंदगी मुक्त बनाने का स्वप्न
गंदगी को दूर कर स्वच्छ भारत हम चुनें
साथ मिलकर हम सभी सुनहरे कल के सपनें बुनें

स्वच्छ भारत अभियान पर कविता लिखने का उद्देश्य यह है, दोस्तों ये देश हमारा है इसे संवारना हमारी जिम्मेदारी है. हम सब को साथ मिलकर इसे साफ़ और निर्मल बनाना है. ताकि हम गर्व से कह सकें Incredible India.

स्वच्छता अभियान पर कविता

स्वच्छ भारत कविता के माध्यम से स्वच्छता की ओर थोड़ा ध्यान दिया जाए. भारत एक तेजी से बढ़ने वाली आर्थिक व्यवस्था की स्थिति में है लेकिन फिर भी भारत देश में बहुत कमियां हैं स्वच्छ भारत कविता में हमने कुछ ऐसा ही वर्णन किया है. भारत के हर एक नागरिक को साथ मिलकर भारत की छवि बदलने में सहयोग करना चाहिए.
चलिए पढ़ते हैं स्वच्छ भारत कविता!!!

सावन शिवरात्रि 2017 के बारे में जानकारी

स्वच्छ भारत अभियान है
बढ़ानी जग में शान है

भारत माँ को प्यार करो
इसका तुम सम्मान करो
नहीं है जग में हिंदुस्तान कोई
यहां भी ये अनमोल है

स्वच्छ भारत अभियान है
बढ़ानी जग में शान है

गंगा यमुना नदियां कई
भारत में विराजमान है
इनको पवित्र करने का संकल्प
अब कागजों में विद्यमान है

स्वच्छ भारत अभियान है
बढ़ानी जग में शान है

एक तरफ है आतंकवाद
एक तरफ है भ्रष्टाचार
मिलकर  इनको उखाड़ना है
यही आज का सुविचार है

स्वच्छ भारत अभियान है
बढ़ानी जग में शान है

क्यों न सपनों का भारत बन जाए
कोई कभी ना परेशानी में आए
माता बहने मेरे देश की
जहां भी चाहे राह बनाएं
इस पर ही सबको अभिमान है

स्वच्छ भारत अभियान है
बढ़ानी जग में शान है

रोजगार से संपन्न हो देश
गंदगी का ना हो नामोनिशान
इसी सादगी इसी संपनता
पर हो देश की पहचान
हम सब ने भी यह माना है

स्वच्छ भारत अभियान है
बढ़ानी जग में शान है