प. नेहरू के जन्मदिन पर जाने उनकी जीवन से जुडी कुछ रोचक बातें

जवाहरलाल नेहरू के बारे में यूं तो सब जानते हैं. उनका जन्म दिन 14 नवंबर को हमारे देश में children’s day के रूप में मनाया जाता है| आज हमारे देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू का जन्मदिन है| ये तो आप सबको पता ही है बच्चे उनको प्यार से चाचा नेहरू के नाम से बुलाते थे| जवाहर लाल नेहरू कश्मीरी पंडित थे। आज हम आपको  जवाहर लाल नेहरू के बारे में ऐसी रोचक बातें बताएंगे जो शायद ही कोई जानता होगा और ये पढ़कर आप कहेगे अरे, ऐसा भी हो सकता है?

प. नेहरू के जीवन से जुडी रोचक बातें:
1. नेहरू की पढाई बचपन से ही इंग्लिश स्कूल में हुई थी, उन्हें गांवो में घूम-घूमकर हिंदी बोलनी सीखी थी|
2. चाचा नेहरू के कपड़े धुलने के लिए विदेश में लंदन जाते थे|
3. एक बार फरवरी 1950, में राजस्थान के पिलानी में जवाहर लाल नेहरू के स्वागत के लिए हरी सब्जियों और गाजर-मूली से स्वागत द्वार बनाए गए थे। जिससे नाराज होकर नेहरू ने सब गरीबों में बँटवा दिया|
4. आपको पता है  JRD Tata ने ब्यूटी प्रोडक्ट लैक्मे महिलाओं के लिए नही बल्कि जवाहर लाल नेहरू के कहने पर बनाया था|
5.प. नेहरू को खाना खाने के बाद 555 ब्रांड का सिगरेट पीने की लत थी|  एक बार नेहरू जी भोपाल गए थे और उनकी सिगरेट खत्म हो गई ये सिगरेट पूरे भोपाल में नही मिली तो एक विशेष विमान में इंदौर से सिगरेट लाई गई|
6. महात्मा गांधी की अपील पर जब पूरा देश विदेशी वस्तुओं का बहिष्कार कर रहा था तो उस समय नेहरू को भी अपना बेस्ट कोट फेंकना पड़ा| इसके बाद ही उन्होनें खादी का जैकेट पहनना शुरू किया था|
7. जवाहार लाल नेहरू , नोबेल प्राइज के लिए 11 बार नाॅमिनेट हो चुके हैं। कई बार उन्हें शांति के नाॅबेल के लिए भी नाॅमिनेट किया जा चुका हैं। लेकिन एक बार भी वह पुरस्कार पाने में सफल नहीं हुए|.
8. जवाहरलाल नेहरू पर चार बार जानलेवा हमला हुआ था, पहली बार 1947 में बंटवारे के दौरान उन पर हमला हुआ था। तब वे भारत-पाकिस्तान सीमा पर थे। इसके बाद 1955 में महाराष्ट्र में चाकू से हमला किया गया। 1956 में बम से रेल की पटरी उड़ाने की कोशिश भी नाकाम हो गई थी|
9. जवाहरलाल नेहरू की मौत 27 मई 1964 को हार्ट अटैक से हुई थी| उनके अंतिम संस्कार में 15 लाख लोग शामिल हुए थे|

 

नेहरू के विचार:

जहाँ प. नेहरू ने अपनी शखिसयत से पूरी दुनिया पर अलग छाप छोड़ी वही वो विश्व में अपने अलग और प्रगतिशील विचार के लिए भी जाने जाते है| आज आपको हम उनके कुछ ऐसी ही विचार से रूबरू कराएंगे|
1 शांति के बिना अन्य सभी सपने गायब हो जाते हैं और राख में मिल जाते हैं|
2 एक महान कार्य में लगन और कुशल पूर्वक काम करने पर भी, भले ही उसे तुरंत पहचान न मिले, अंततः सफल जरुर होता है|
3 संकट में हर छोटी सी बात का महत्व होता है  |
4 विफलता तभी होती है जब हम अपने आदर्शों, उद्देश्यों और सिद्धांतों को भूल जाते हैं |
5 संकट और गतिरोध जब होते हैं तो उनसे कम से कम यह लाभ होता  है, कि वे हमें सोचने के लिए मजबूर करते है |
आज चाचा नेहरू के जन्मदिन पर हमने आपको उनके उन विचारो और रोचक बातो से रूबरू कराया जिससे आप अभी तक अनजान थे|

चाचा नेहरू के जन्मदिन पर क्यों मनाया जाता है बाल दिवस, क्या है इसका इतिहास

बाल दिवस-Children’s Day-14th November!! जवाहर लाल नेहरू ये एक ऐसा नाम है जिसे शायद ही कोई होगा जो इस नाम से रूबरू नहीं होगा है। प.नेहरू ने देश से लेकर हर इंसान पर अपनी छाप छोड़ी है। पर ये तो आप सब जानते ही होंगे की जवाहरलाल नेहरू का एक दूसरा नाम चाचा नेहरू भी है। उन्हें प्यार से चाचा नेहरू भी कह कर बुलाया जाता था। प.नेहरू के जन्मदिवस को देश में बालदिवस के रूप में मनाया जाता है। आज उनके जन्मदिन पर हम आपको उनके जीवन से जुडी खास बातो के बारे में बताएंगे।

बाल दिवस

भारत में हिंदी भाषा में करियर की संभावनाएं जरूर पढ़ें

बाल दिवस का इतिहास:
14 नवंबर को हमारे देश में बाल दिवस के रूप में मनाया जाता है। भारत में यह दिन आज़ाद भारत के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू के जन्मदिन के मौके पर मनाया जाता है। ऐसा माना जाता है कि पंडित नेहरू बच्चों से बेहद प्यार करते थे इसलिए बाल दिवस मनाने के लिए उनका जन्मदिन चुना गया।

वैसे तो बाल दिवस की नींव 1925 में रखी गई थी। जब बच्चों के कल्याण पर विश्व कांफ्रेंस में बाल दिवस मनाने की घोषणा हुई। 1954 में दुनिया भर में इसे मान्यता मिली। संयुक्त राष्ट्र ने यह दिन 20 नवंबर के लिए तय किया लेकिन अलग अलग देशों में यह दिन अलग-अलग तारीख को मनाया जाता है। 1950 से बाल संरक्षण दिवस यानि 1 जून भी कई देशों में बाल दिवस के रूप में मनाया जाता है।

क्यों मनाया जाता है बाल दिवस:
ये तो हमने आपको बता दिया की देश में 14 नवंबर को बाल दिवस क्यों मानते है। पर क्या आपको पता है की आखिर बाल दिवस पूरी दुनिया में क्यों मनाया जाता है? नहीं, तो हम बताते है आपको इस दिन बच्चों के अधिकार, देखभाल और शिक्षा के बारे में लोगों को जागरुक किया जाता है। बच्चे किसी भी देश की सफलता और विकास की कुँजी होते है क्योंकि वो ही भविष्य में अपने देश का नये और तकनीकी ढंग से नेतृत्व करेंगे। वो अनमोल मोती की तरह ही चमकदार और अति आकर्षक होते हैं। बच्चे उनके माता-पिता के लिए भगवान का एक अनमोल उपहार हैं। वो निर्दोष, सराहनीय, शुद्ध और हर किसी को प्यारे होते हैं।

नेहरु जी बच्चों को देश के भविष्य की तरह देखते थे। नेहरु जी अपना अधिकतम समय बच्चों के साथ बिताना पसंद करते थे। वो हमेशा बच्चों के प्रति अपना लगाव जाहिर करते थे। उन्होंने भारत की आजादी के बाद बच्चों के साथ ही युवाओं के भलें के लिए बहुत अच्छे काम किया। उन्होंने भारत के बच्चों की शिक्षा, प्रगति और कल्याण के लिए बहुत काम किया।

वो बच्चों के के प्रति बहुत स्नेही थे और उनके बीच चाचा नेहरू के रूप में प्रसिद्ध हो गये। भारत के युवाओं के विकास और प्रगति के लिए, उन्होंने विभिन्न शैक्षिक संस्थानों जैसे भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान और भारतीय प्रबंधन संस्थान की स्थापना की थी।

नेहरू का जीवन:
पंडित जवाहर लाल नेहरू का जन्म 14 नवम्बर 1889 को इलाहाबाद में हुआ था। उन्होंने अपनी शुआती शिक्षा अपने घर पर निजी शिक्षकों से ही प्राप्त की। पंद्रह साल की उम्र में वे इंग्लैंड चले गए और हैरो में दो साल रहने के बाद उन्होंने कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय में दाखिला लिया जहाँ से उन्होंने प्राकृतिक विज्ञान में स्नातक की डिग्री प्राप्त की। 1912 में भारत लौटने के बाद वे सीधे राजनीति से जुड़ गए।

Happy Children Day to all lovely and Cute Children!!!