Toronto International Film Festival 2017 में प्रियंका का जलवा

दोस्तों TIFF यानी की Toronto International Film Festival 2017 की शुरुआत हो चुकी है. दोस्तों TIFF को लेकर आपके मन में कई सवाल होंगे क्या है ये फेस्टिवल कब से शुरु हुआ क्यों Host किया जाता है और भी बहुत कुछ तो दोस्तों तैयार हो जाइये हम आपको देंगे TIFF के History और geography की पूरी जानकारी.
इस नवरात्र इन Dishes को Try करें

Toronto International Film Festivalसबसे पहले शुरुआत करते हैं भारत से, दोस्तों TIFF की शुरुआत 7 सितम्बर से हो चुकी है और ये FESTIVAL लगातार 10 दिन तक चलेगा.

TIFF में देसी गर्ल प्रियंका का जलवा :

Toronto International Film Festivalदोस्तों प्रियंका ने भी TIFF में शिरकत किया प्रियंका Red carpet पर Black गाउन में बहुत ही Attractive लग रहीं थी. दोस्तों आपको बता दें कि प्रियंका यहां अपनी मां मधु चोपड़ा के साथ अपने Production की फिल्म the little visiter की स्क्रीनिंग के लिए पहुंची है. यह प्रियंका के production house में बनीं 5वीं फिल्म है. दोस्तों प्रियंका की फिल्म ‘पहुना: द लिटिल विजिटर्स’ SIKKIM के CULTURE को दिखाती है.

ये उनके Production house, Purple Pebbles की फिल्म है. इससे पहले प्रियंका का Production house ‘बम बम बोल रहा है काशी’,’वेंटीलेटर’, ‘सरवन’ और ‘काय रे रास्कनला’ जैसी रीजनल फिल्में बना चुकी हैं.

फिलहाल प्रियंका इन फल्मों में व्यस्त हैं:Toronto International Film Festival प्रियंका इन दिनों अपनी हॉलीवुड फिल्मे ‘इजंट इट रोमांटिक’ और ‘ए किड लाइक जेक’ में बिजी हैं. दोनों ही फिल्मों में वो सपोर्टिंग रोल में नजर आएंगी. खबरों की मानें तो वो फिल्म मेकर संजय लीला भंसाली की फिल्म ‘गुस्ताखियाँ के लीड रोल प्ले कर सकती हैं हालांकि अभी इसकी ऑफिशियल अनाउंसमेंट नहीं हुई है.

TIFF की HISTORY :
TIFF की शुरुआत 1976 से की गयी,यह फिल्म फेस्टिवल 10 दिन तक चलने वाला सबसे लम्बा और सबसे प्रतिष्ठित फिल्म फेस्टिवल है. उभरते फिल्म निर्माताओं को अंतर्राष्ट्रीय परिदृश्य में पेश करने के लिए TIFF उन्हें मंच प्रदान करता है .

किसको मिल सकती है TIFF में ENTRY:
दोस्तों कान फिल्म फेस्टिवल में सिर्फ मान्यता प्राप्त फिल्म प्रोफेसनल को ही एंट्री मिलती है लेकिन आपको बता दें कि TIFF में ऐसा कुछ नहीं है इसमें आम जनता भी अपने पैसे से टिकट खरीद कर लाइव फेस्टिवल का लुफ्त उठा सकती है 2016 के TIFF  फेस्टिवल में  480,000 लोग उपस्थित थे और उनमें से लगभग 5,000 लोग इस उद्योग में थे (जिसमें फिल्म निर्माताओं, वितरकों, प्रचारकों और पत्रकार शामिल थे) बाकि जनता के प्यार के कारण क्राउड था.

TIFF में दिखाई जाने वाली फिल्में:
दोस्तों आपको जानकार हैरानी होगी की कई अलग-अलग जेनर की 2016 में सम्मानित प्रोग्रामिंग स्टाफ द्वारा चुनी गयी 400 फिल्में TIFF में दिखाई गयीं थी. दोस्तों अगर फिल्मों के नंबर देखें तो किसी भी फिल्म प्रेमी के लिए 10 दिन में 400 फिल्में देखना लगभग नामुमकिन सा है. अपने लम्बे hours के कारण अक्सर TIFF निशाने पर रहा है. 2017 के लिए, TIFF अपने स्लेट को 20 प्रतिशत तक कम करने की सोच रहा है.
दोस्तों TIFF ने प्रमुख फिल्मों की प्रीमियर शुरू करके उन्हें सार्वजनिक स्क्रीनिंग देकर खुद को शीर्ष स्तर में दर्ज़ किया है .

TIFF में 3 भारतीय फिल्मों की स्क्रीनिंग होगी:
दोस्तों TIFF के 42वें संस्करण में भारत की तरफ से अनुराग कश्यप की मुक्काबाज़ (द ब्रावलर) और हंसल मेहता की ओमर्टा सहित तीन भारतीय फिल्मों की स्क्रीनिंग होगी.
अनुराग कश्यप ने फेसबुक पर पोस्ट किया कि टीम मुक्केबाज 2017 Toronto International Film Festival पर जा रही है.Toronto International Film Festivalराष्ट्रीय पुरस्कार विजेता फिल्म निर्माता, मेहता की ओमर्टा जिसमे राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता अभिनेता राजकुमार राव ने एक्टिंग की है की भी स्क्रीनिंग Toronto International Film Festival में होगी मेहता ने एक बयान में कहा कि ओमर्टा ‘अब तक मेरी सबसे उत्तेजक फिल्म है.

प्रियंका की फिल्म ‘पाहुना’ ने TIFF में बटोरी तारीफ:Toronto International Film Festivalदोस्तों भारत की अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा निर्मित फिल्म ‘पाहुना’ ने टिफ में प्रशंसा बटोरी कनाडा में चल रहे टोरंटो फिल्म फेस्टिवल में प्रियंका चोपड़ा द्वारा निर्मित सिक्किमी फिल्म, “पाहुना: द लिटिल विजिटर्स” ने अपने प्रीमियर के दौरान प्रशंसा बटोरी. “पाहुना” (“द लिटिल विजिटर्स”) दोस्तों पाहुना तीन नेपाली बच्चों की कहानी है जो अपने परिजनों से बिछड़ जाते हैं और नेपाल के माओवादी आंदोलन से बचकर सिक्किम भाग आते हैं. इस फिल्म का निर्देशन पाखी टायरवाला ने किया है. प्रियंका ने फिल्म के प्रदर्शन का एक वीडियो इंस्टाग्राम पर साझा किया और कहा कि उन्हें इस फिल्म तथा निर्देशक पर गर्व है. इसके अलावा उन्होंने अपनी मां, मधु चोपड़ा और साथ-साथ टिफ के कलात्मक निर्देशक कैमरॉन बेली को भी धन्यवाद दिया जिन्होंने उनको ‘छोटी फिल्म और बड़े संदेश को विश्व के दर्शकों के साथ साझा करने का मौका दिया.एक फिल्म जो बच्चों के अधिकारों, शरणार्थियों के संकट और धर्म परिवर्तन पर आधारित है.