बर्थडे स्पेशल: आनंदीबेन के जन्मदिन पर जाने उनसे जुडी दिलचस्प बातें

आनंदीबेन जेठाभाई पटेल का जन्म (21 नवंबर 1 9 41) मेहसाणा जिले के विजापुर तालुका के खरोद गांव में हुआ था। एक भारतीय राजनीतिज्ञ हैं जो सबसे लंबे समय तक कार्यरत महिला विधायक हैं।आनंदीबेन गुजरात की एकमात्र महिला विधायक हैं जो लगातार 4 बार चुने गई हैं। उनके कठिन परिश्रम, साहस, ईमानदारी और धीरज उन्हें शीर्ष पर ले गया। आनंदीबेन के जन्मदिन के सम्मान में, हम आपके लिए इस बहादुर और साहसी महिला के बारे में 5 तथ्यों लेकर आए हैं जो गुजरात की पहली महिला मुख्यमंत्री बनी।

आईये,एक नज़र डालते है।

आनंदीबेन पटेल से जुडी Amazing बातें:

आनंदीबेन एक भारतीय राजनीतिज्ञ हैं
आनंदीबेन एक भारतीय राजनीतिज्ञ हैं

1. आनंदीबेन ने 700 लड़कों के बीच एक लड़की के रूप में अपनी शिक्षा की।

उनको लड़कों के स्कूल में भर्ती कराया गया था क्योंकि इस क्षेत्र में कोई दूसरा स्कूल नहीं था। यह बहुत ही चौंकाने वाला है कि आनंदीबेन ने 700 लड़कों के बीच सिर्फ एक लड़की होने के बाद भी अपनी पढाई की।

इसके बाद उन्हें 8 वीं कक्षा में विसनगर में स्कूल न्यूटन सर्व विद्यालय में एक गर्ल्स में शिफ्ट कर दिया गया था और आनंदीबेन को एथलेटिक्स में उनकी उपलब्धियों के लिए मेहसाणा में “वीरबाला” पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

2. वह पढ़ाई के बारे में बेहद भावुक थी और अपने कॉलेज में बैचलर ऑफ साइंस पढ़ने वाली एकमात्र लड़की थी।

1960 में आनंदीबेन ने कॉलेज में शामिल हुए और अपने कॉलेज में वो फर्स्ट ईयर की विज्ञान की एकमात्र लड़की थी।

3. शादी के बाद आनंदीबेन ने अपनी पढ़ाई को जारी रखी

1 9 65 में वह अपने पति के साथ अहमदाबाद रहने लगी। जहां उन्होंने मास्टर ऑफ साइंस में प्रवेश किया। बाद में उन्होंने 1970 में मोहनिबा स्कूल विद्यालय में एक स्कूल शिक्षिका के रूप में 30 साल तक बच्चो को पढ़ाया।

4. राजनीति की दुनिया में उनका आना काफी नाटकीय था।

आनंदीबेन ने अपने स्कूल के ट्रिप के दौरान 2 लड़कियों को डूबने से बचा लिया। वह भाजपा के ध्यान में तब आई जब वो दो छात्रों को बचाने के लिए, जो नदी के पानी में कूद गई थी।

पर वह तब शामिल नहीं हुईं क्योंकि आनंदिबेन पहली बार राजनीतिक में आने के बारे में संकोच करती थी। लेकिन बाद में यह देखकर कि राजनीति लोगों के लिए एक माध्यम बन सकती हैआनंदिबेन इसमें शामिल हो गई।

5. आनंदीबेन पटेल गुजरात की पहली महिला मुख्यमंत्री बने।

आनंदीबेन के काम के प्रति से प्रभावित हक्लार उन्हें इतनी बड़ी जिम्मेदारी दी गई थी।

हमारी उन्हें उनके जन्मदिन पर ढेर सारी शुभकामनांए !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *