जानें दाउद इब्राहम के अंडरवर्ल्ड डॉन बनने की कहानी

UnderWorld Don Daud Ibrahm

आज हम फिर आपके लिए एक ऐसे पर्सनालिटी के बारे में बताएँगे जिसका नाम तो आपने सुना होगा पर आप उसके बारे में पूरी कहानी नहीं जानते होंगे। जिसके बारे में हम आपको बताएंगे वो है डॉन दाउद इब्राहम। इनका नाम अपराध की दुनिया का जाना – माना नाम है।

1970 से 90 में भारत में गैंगस्टर कल्चर अपनी चरम सीमा पर था मुंबई की झोपड़ियों और चौलों में अपराधी पनप रहे थे इसी अपराध की दुनिया के सबसे बड़े नाम भी इसी चौलों से निकला इन सबकी शुरुआत छोटी-मोटी चोरियों से हुई थी। जैसे ब्लैक में फ़िल्म के टिकट बेचना लेकिन धीरे-धीरे इनके बड़े-बड़े सपने आकाश को छूने लगे और जुर्म की दुनिया से ये बन गए मुंबई अंडरवर्ल्ड के बादशाह दाऊद इब्राहिम। लेकिन ऐसी कई बातें है जो आपको इस डॉन के बारे में हीं पता होंगी। चलिए जानते है फिर उन बातो को।

http://sarijankari.com/2017/11/16/winters-skin-care-beautiful-tips/

कौन है Daud Ibrahm-

ऐसा कोई भारतीय नहीं होगा जिसने दाऊद इब्राहिम का नाम नहीं सुना होगा। डी कंपनी शुरू करने के बाद, दाऊद जुर्म की दुनिया का इतना बड़ा नाम बन गया कि अब उसकी गिनती दुनिया के सबसे खतरनाक अपराधियों की लिस्ट में उनका नाम तीसरे नंबर पर है।

  • दाऊद इब्राहिम का जन्म महाराष्ट्र के रत्नागिरी में हुआ था।
  • पार्टियों का शौकीन दाऊद को बचपन से ही जल्द से जल्द पैसा कमाने की ललक थी। इसके लिए उसने गलत रास्ता को अपनाया ।
  • दाऊद के पिता इब्राहिम कासकर मुंबई पुलिस में कांस्टेबल थे और उनके 7 बेटे और 3 बेटियां थीं
  • सबसे बड़ा बेटा साबिर था और दाऊद दूसरे नंबर पर था ।
  • दाऊद इब्राहिम ने 9वीं के बाद ही स्कूल से नाता तोड़ दिया था। पैसे की ललक उस पर इस कदर सवार हुए की वो आपराधिक गतिविधियों में लगने लगा।
  • दाऊद के आपराधिक जीवन की शुरुआत एक बिजनेसमैन के साथ लूटपाट से हुई जिसकी वजह से उसे जेल जाना पड़ा।
  • इसके बाद से दाऊद मुंबई के अंडरवर्ल्ड डॉन करीम लाला के गैंग के लिए काम करने लगा, लेकिन धीरे-धीरे उसकी राह अलग होती गई।
  • वह अपने भाई के साथ एक अलग गैंग चलाने लगा।
  • 1980 के दशक में दाऊद का नाम मुंबई के अपराध जगत में बहुत तेज़ी से उभरा । उसकी पहुंच फिल्म जगत से लेकर सट्टे और शेयर बाज़ार तक हो गई थी।
  • करीम लाला और हाजी मस्तान जैसे डॉन अब पुराने हो चले थे और उनका दौर खत्म हो रहा था। ऐसे वक्त पर दाऊद इन दोनों की जगह धीरे-धीरे ले रहा था ।
  • उसका काम था धमकी देकर फिरौती वसूल करना। वह मुंबई पुलिस की नजरों में चढ़ चुका था और उसका जेल आने-जाने काअब आम बात हो गई थी।
  • मुंबई में उसका खौफ काम कर रहा था और वह करोड़ों में खेल रहा था।

भारत के सबसे बड़े दुश्मन और 1993 मुंबई बम धमाके के मास्टरमाइंड अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम इस वक़्त भारत सरकार के कब्ज़े से दूर है। सरकार के तमाम कोशिशों के बाद भी दाऊद भारत सरकार के हाथ अभी तक नहीं लगा।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *