चाचा नेहरू के जन्मदिन पर क्यों मनाया जाता है बाल दिवस, क्या है इसका इतिहास

बाल दिवस-Children’s Day-14th November!! जवाहर लाल नेहरू ये एक ऐसा नाम है जिसे शायद ही कोई होगा जो इस नाम से रूबरू नहीं होगा है। प.नेहरू ने देश से लेकर हर इंसान पर अपनी छाप छोड़ी है। पर ये तो आप सब जानते ही होंगे की जवाहरलाल नेहरू का एक दूसरा नाम चाचा नेहरू भी है। उन्हें प्यार से चाचा नेहरू भी कह कर बुलाया जाता था। प.नेहरू के जन्मदिवस को देश में बालदिवस के रूप में मनाया जाता है। आज उनके जन्मदिन पर हम आपको उनके जीवन से जुडी खास बातो के बारे में बताएंगे।

बाल दिवस

भारत में हिंदी भाषा में करियर की संभावनाएं जरूर पढ़ें

बाल दिवस का इतिहास:
14 नवंबर को हमारे देश में बाल दिवस के रूप में मनाया जाता है। भारत में यह दिन आज़ाद भारत के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू के जन्मदिन के मौके पर मनाया जाता है। ऐसा माना जाता है कि पंडित नेहरू बच्चों से बेहद प्यार करते थे इसलिए बाल दिवस मनाने के लिए उनका जन्मदिन चुना गया।

वैसे तो बाल दिवस की नींव 1925 में रखी गई थी। जब बच्चों के कल्याण पर विश्व कांफ्रेंस में बाल दिवस मनाने की घोषणा हुई। 1954 में दुनिया भर में इसे मान्यता मिली। संयुक्त राष्ट्र ने यह दिन 20 नवंबर के लिए तय किया लेकिन अलग अलग देशों में यह दिन अलग-अलग तारीख को मनाया जाता है। 1950 से बाल संरक्षण दिवस यानि 1 जून भी कई देशों में बाल दिवस के रूप में मनाया जाता है।

क्यों मनाया जाता है बाल दिवस:
ये तो हमने आपको बता दिया की देश में 14 नवंबर को बाल दिवस क्यों मानते है। पर क्या आपको पता है की आखिर बाल दिवस पूरी दुनिया में क्यों मनाया जाता है? नहीं, तो हम बताते है आपको इस दिन बच्चों के अधिकार, देखभाल और शिक्षा के बारे में लोगों को जागरुक किया जाता है। बच्चे किसी भी देश की सफलता और विकास की कुँजी होते है क्योंकि वो ही भविष्य में अपने देश का नये और तकनीकी ढंग से नेतृत्व करेंगे। वो अनमोल मोती की तरह ही चमकदार और अति आकर्षक होते हैं। बच्चे उनके माता-पिता के लिए भगवान का एक अनमोल उपहार हैं। वो निर्दोष, सराहनीय, शुद्ध और हर किसी को प्यारे होते हैं।

नेहरु जी बच्चों को देश के भविष्य की तरह देखते थे। नेहरु जी अपना अधिकतम समय बच्चों के साथ बिताना पसंद करते थे। वो हमेशा बच्चों के प्रति अपना लगाव जाहिर करते थे। उन्होंने भारत की आजादी के बाद बच्चों के साथ ही युवाओं के भलें के लिए बहुत अच्छे काम किया। उन्होंने भारत के बच्चों की शिक्षा, प्रगति और कल्याण के लिए बहुत काम किया।

वो बच्चों के के प्रति बहुत स्नेही थे और उनके बीच चाचा नेहरू के रूप में प्रसिद्ध हो गये। भारत के युवाओं के विकास और प्रगति के लिए, उन्होंने विभिन्न शैक्षिक संस्थानों जैसे भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान और भारतीय प्रबंधन संस्थान की स्थापना की थी।

नेहरू का जीवन:
पंडित जवाहर लाल नेहरू का जन्म 14 नवम्बर 1889 को इलाहाबाद में हुआ था। उन्होंने अपनी शुआती शिक्षा अपने घर पर निजी शिक्षकों से ही प्राप्त की। पंद्रह साल की उम्र में वे इंग्लैंड चले गए और हैरो में दो साल रहने के बाद उन्होंने कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय में दाखिला लिया जहाँ से उन्होंने प्राकृतिक विज्ञान में स्नातक की डिग्री प्राप्त की। 1912 में भारत लौटने के बाद वे सीधे राजनीति से जुड़ गए।

Happy Children Day to all lovely and Cute Children!!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *