करवा चौथ की पूजन विधि और मुहूर्त

करवा चौथ व्रत सुहागन महिलाएं अपने पति के लिए करती हैं इस दिन वो पति की लंबी उम्र की प्रार्थना करती हैं. साथ ही भगवान से अपने सुखी गृहस्थ जीवन के भी लिए प्रार्थना करती हैं.

गुस्सा काबू करने का Top and easy tips

करवा चौथ

इस बार साल 2017 में करवाचौथ का व्रत आठ अक्टूबर(8 October), रविवार को पड़ रहा है.

करवा चौथ के दिन का मुहूर्त(Karwa chauth Ka Muhurt):

करवा चौथ के दिन पूजा का समय शाम 5:55 पर शुरू होगा और शाम 7: 09 पर पूजा करने का महूर्त समाप्त होगा.

चांद देखना जरूरी क्‍यों है (Kab niklega chaand):
इस व्रत के दिन चंद्रमा का उदय शाम आठ बजकर चौदह मिनट पर होगा. इस दिन महिलाएं चंद्रमा को देखे पानी ग्रहण करती हैं. चाँद निकलने के बाद होने के बाद औरतें चाँद को छलनी से  देखती हैं फिर अपने पति का दीदार भी छलनी से ही करती हैं. इसके बाद पति अपनी पत्नियों को पानी पिलाकर उनका व्रत पूरा करते हैं. चाँद को देखे बिना यह व्रत अधूरा माना जाता है.

करवा चौथ करने की विधि :
Karwa chauth का व्रत केवल शादी-शुदा महिलाओं के लिये ही होता है. महिलाएं अपने सास या फिर माँ से करवा चौथ करने की विधि सीखती हैं. लेकिन अगर आप अपने घर से दूर रहती हैं और यह व्रत करना चाहती हैं, इसकी विधि जाननी चाहती हैं तो हम आपको इस व्रत की विधि विस्तार से बताएंगे तो चलिए जानते हैं क्या है करवा चौथ व्रत की सही विधि.

  • सरगी करने के बाद करवा चौथ का निर्जला व्रत शुरु होता है. व्रत के दिन माता पार्वती, महादेव और गणेश जी का ध्‍यान मन में करती रहें.
  • गेरू और पिसे चावलों के घोल से दिवार पर करवा का चित्र बनाएं. चित्र बनाने की इस कला को करवा धरना कहा जाता है जो कि पुरानी परंपरा है.
  • लकड़ी के सिंहासन पर माता पार्वती को स्थापित करें. और उन्हें लाल रंग की चुनरी पहना कर  सुहाग, श्रृंगार की  सामग्री अर्पित करें और माँ कि स्थापित मूर्ति के आगे जल से भरा कलश रखें.
  • व्रत के दिन माँ गौरी और गणेश के स्‍वरूपों की पूजा करें.

करवा चौथ के दिन इस मंत्र का जाप करें:
नमः शिवायै शर्वाण्यै सौभाग्यं संतति शुभाम्‌
प्रयच्छ भक्तियुक्तानां नारीणां हरवल्लभे.

अधिकतर महिलाएं अपने परिवार में प्रचलित प्रथा के अनुसार पूजा करती हैं. हर क्षेत्र  में अपने रिवाज के हिसाब से पूजा करने का विधान है. इसलिये कथा में भी अंतर पाया जाता है.
व्रत के दिन करवा चौथ की कथा कहनी सुननी चाहिए कथा के बाद आपको अपने घर के सभी वरिष्‍ठ लोगों का चरण स्‍पर्श करना चाहिये.
रात के समय छननी के प्रयोग से चाँद का दर्शन करें फिर पति के पैरों को छूकर उनका आर्शिवाद लें बाद में पति को प्रसाद दे कर बाद में खुद भी प्रसाद ग्रहण करें.

सभी दम्पत्तियों को करवा चौथ की हार्दिक शुभकामनायें!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *