गुस्सा काबू करने का Top and easy tips

गुस्सा कैसे कम करें !!!
गुस्सा बड़ा ही आम शब्द और आम बात है. जिसे देखिये वो किसी ना किसी पर अपना गुस्सा उतारते आपको मिल ही जाएगा.

गुस्सा कैसे कम करें

Best Personality development tips

लेकिन आपने कभी सोचा है गुस्से का क्या प्रभाव आपके हेल्थ पर पड़ता है, वातावरण पर क्या पड़ता है, सामने वाले व्यक्ति जिसपर आप गुस्सा कर रहे हैं उसपर क्या पड़ता है, आपके रिश्तों पर क्या पड़ता है ?
दोस्तों किसी गाने कि बेहद खूबसूरत Line है जो यहां हम आपको बताना चाहेंगे हर वो घाव भर जाता है जो बना हो किसी गोली से पर वो घाव नहीं भरता जो बना  हो कड़वी बोली से”
किसी को जली-कटी सुनाने से पहले रुकिए, सोचिये अगर आपके अंदर से वो शब्द नफरत के कारण निकल रहा है तो तुरंत रुक जाइये. गुस्सा कैसे कम करें इस सवाल का जवाब हम आपको आज के इस आर्टिकल में बताएंगे.

सोच समझकर बोलें(Be  careful while speaking):

कागा काको धन हरै, कोयल काको देत
मीठा शब्द सुनाये के, जग अपनो कर लेत 

यानी कौआ किसी का धन हरण नहीं करता और कोयल किसी को कुछ नहीं देती है वह केवल अपनी बोली से पूरी दुनिया को अपना बना लेती है.
गुस्सा कम कैसे करें सवाल का पहला और सबसे मत्वपूर्ण जवाब है सोच समझकर शब्दों का प्रयोग करें.
जब भी आप गुसी में हो सामने वाले व्यक्ति से जो भी बोलेन उसको सोच समझकर बोलें जो आप बोलेंगे उसकी छवि हमेशा सामने वाले के मन पर अंकित हो जाएगी.
आपके कुछ सेकंड के गुस्से कि वजह से आपका रिश्ता ख़राब हो जाएगा.

गुस्सा आये तो कहीं चले जाएं(Go away from that place):
गुस्सा कैसे कम करें का दूसरा जवाब है दूरी, जब भी आपको लगे आपको गुस्सा आ रहा है और आपके बर्दास्त से बाहर हो रहा है तो तुरंत उस जगह से हट जाएं और कहीं और चले जाएं.
ऐसा करने से वो व्यक्ति और माहौल दोनों ही आप से दूर हो जाएंगे और आप गुस्से से होने वाले नुकसान से बच जाएंगे.

एक शब्द सों प्यार है, एक शब्द कू प्यार
एक शब्द सब दुशमना, एक शब्द सब यार.

यानी कि एक शब्द से सबसे प्रेम उत्पन्न होता है एक शब्द सबको प्यारा लगता है
एक शब्द सबको दुशमन बना देता है और एक शब्द ही सबको मित्र बना देता है. वाणी सबसे ताकतवर है.

कुछ अच्छा सोचें (Think Good):

गुस्से को दूर करने का सबसे अच्छा तरीका है जब भी आपको गुस्सा आए कुछ अच्छा सोचना शुरू कर दीजिये.
ऐसा करने से आपका ध्यान से आपका दिमाग बंट जाएगा और आप किसी भी मुश्किल में पड़ने से बच जाएंगे.

क्रोध अगिन घर घर बढ़ी, जलै सकल संसार दीन लीन निज भक्त जो तिनके निकट उबार.

यानी घर-घर क्रोध की अग्नि से सम्पूर्ण संसार जल रहा है. परंतु ईश्वर का समर्पित भक्त इस क्रोध की आग से अपने को शीतल कर लेता है. वह सांसरिक तनावों एंव कष्टों से मुक्त हो जाता है.

माफ़ करे और भूल जाएं(Forgive & forget):
क्षमा बड़न को सोहत है छोटन को उत्पात
यहां छोटे का मतलब उम्र से नहीं कर्मों से है.
माफ़ करना अपने आप में साहस का बहुत बड़ा काम है किसी ने बहुत अच्छी बात कही है कि किसी भी रिश्ते को निभाना हो तो अपने दिल में एक कब्रिस्तान बना लीजिये जहाँ आप लोगों कि गलतियों को दफन कर सकें.

बुरी आदतों को छोड़ दें(Quit Bad habits):
अगर आपको किसी चीज जैसे सिगरेट, तम्बाकू, शराब, ड्रग्स आदि की लत है तो इसे तुरंत छोड़ दें ये गुस्से को बढ़ने का काम करती हैं.
और आपके Health पर भी बुरा असर डालती हैं. खुशहाल जीवन के लिए इन चीजों से दूरी बनाना आपके लिए लाभकारी होगा.

अच्छी किताबें पढ़ें(Read good books):
किताबें आपको शांतचित्त बनती हैं हमेशा कोशिश करिये की आप रोज कम से कम किसी अच्छी किताब के 7 -8 पेज पढ़ें. पॉजिटिव थिंकिंग पर कई किताबे बाजार में उपलब्ध हैं आप उनका लाभ उठा सकते हैं.

Music सुने(Listen Music) :
यदि आपको Music सुनना अच्छा लगता हो नियमित रूप से इसे सुनें ये मानसिक रूप से आपको बहुत शांति प्रदान करेगा म्यूजिक में भी गुस्से और अशांति के समय सॉफ्ट म्यूजिक को तरजीह दें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *