हिंदी भाषा में कैरियर संभावनाएं

हिंदी भाषा में कैरियर!!! दोस्तों हिंदी हमारी राष्ट्रभाषा है, इसके बावजूद इस विविधतापूर्ण देश में अनेक भाषाएं और बोलियां प्रचलित हैं, आपको बता दें कि हिंदी बोलने वालों की संख्या में लगातार बढ़ रही है.
World Alzheimer Day

सूचना-प्रौद्योगिकी, कम्प्यूटरीकरण के इस युग में और मीडिया के बढ़ते प्रभावों के कारण ही आज फंक्शनल हिंदी के क्षेत्र में रोजगार के नए-नए अवसर खुल रहे हैं. इस क्षेत्र में आज कुशल Professionals की डिमांड है.

फंक्शनल हिंदी :
फंक्शनल हिंदी का अर्थ है- language for specific purpose। फंक्शनल हिंदी, हिंदी का वह रूप है, जिसे किसी प्रयोजन विशेष या उद्देश्य से जोड़ कर देखा जाता है. यानी दैनिक जीवन या रोजमर्रा की लाइफ से जुड़े किसी भी क्षेत्र में हिंदी के जिस रूप का इस्तेमाल हम करते हैं, वही फंक्शनल हिंदी है.

हिंदी भाषा में कैरियर कितना सही :
हिंदी को राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर Promote करने के लिए कई तरह के प्रयास, कार्यक्रम और हिंदी दिवस सरीखे आयोजन होते रहते हैं. ऐसे में हिंदी अपनी उपयोगिता के कारण खुद-ब-खुद प्रॅमोट हो रही है. हम लोग हिंदी को पूरी तरह स्थापित कर पाने में असमर्थ हो रहे हैं, वहीं दूसरी ओर आज फंक्शनल हिंदी में छुपी अपार संभावनाओं के चलते केवल देश में, बल्कि विदेशों में भी छात्र इस भाषा को अपना रहे हैं. फंक्शनल हिंदी फ्रेंच, जर्मन, जैपनीज भाषा की तरह ही फॉरेन लैंग्वेज के रूप में भी धीरे-धीरे लोकप्रिय हो रही है.

रोजगार की संभावनाएं:
हिंदी भाषा में कैरियर
Friends अगर करियर की बात करें तो आज जो क्षेत्र ज्यादा लोकप्रिय हैं, वे हैं-Media, Advertising, Hindi translator आदि.
इसके अलावा, केंद्र सरकार और राज्य सरकार अलग-अलग डिपार्टमेंट्स में हिंदी ट्रांसलेटर्स, असिस्टेंट्स, मैनेजर (ऑफिशियल लैंग्वेज) आदि के Vacancy भी समय-समय पर निकलते रहते हैं. यानी आप जिस भी क्षेत्र को बेहतर मानते है चाहे सरकारी क्षेत्र को सुरक्षित मानते हुए वहां जाना चाहें या प्राइवेट को बेहतर मानें, तो ऐसी स्थिति में फंक्शनल हिंदी आपको दोनों तरह के क्षेत्रों में जाने का अवसर प्रदान करती है.

हिंदी की पढ़ाई:
आज फंक्शनल हिंदी की पढ़ाई देश के सभी प्रसिद्ध विश्वविद्यालयों में हो रही है. जैसे, जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय, दिल्ली विश्वविद्यालय, लखनऊ, कानपुर आदि. इसके अलावा, केंद्रीय हिंदी संस्थान, इग्नू आदि में भी Functional हिंदी के Courses हैं.
आप  Full term और short term basis, दोनों स्तर की पढ़ाई कर सकते हैं. कुछ संस्थान मे हिंदी भाषा को वैकल्पिक विषय के रूप में तो कुछ ऐसे संस्थान भी हैं, जहां इसे आप मुख्य विषय के रूप में पढ़ सकते हैं, दिल्ली विश्वविद्यालय में इस विषय में B.A स्तर की पढ़ाई होती है, तो M.A में इसे Optional Subject के रूप में पढ़ाया जाता है. इसी तरह, जेएनयू और केंद्रीय हिंदी संस्थान से आप इसमें एडवांस्ड-लेवल यानी एमफिल या पीएचडी स्तर की पढ़ाई भी कर सकते हैं. वहीं इग्नू, जामिया मिलिया, भारतीय विद्या भवन, इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मास कम्युनिकेशन आदि  हिंदी भाषा में डिप्लोमा या सर्टिफिकेट कोर्स कराते हैं.
हिंदी भाषा में कैरियर
हिंदी की बढ़ती लोकप्रियता और अंतराष्ट्रीय महत्त्व के साथ हिंदी भाषा के क्षेत्र में रोज़गार के नए अवसरों में वृद्धि हुई है. केंद्र सरकार, राज्य सरकारों (हिंदी भाषी राज्यों में) के विभिन्न विभागों में, हिंदी भाषा में काम करना अनिवार्य है. इसलिए केंद्र/राज्य सरकारों के विभिन्न विभागों और इकाइयों में हिंदी अधिकारी, हिंदी अनुवादक, हिंदी सहायक, प्रबंधक (राजभाषा) जैसे विभिन्न पदों की भरमार है. निजी टीवी और रेडियो चैनलों की शुरुआत और  पत्रिकाओं, समाचार-पत्रों के हिंदी रूपान्तर आने से रोजगार के अवसरों वृद्धि हुई है. हिंदी मीडिया के क्षेत्र में संपादकों, संवाददाताओं, रिपोर्टरों, न्यूजरीडर्स, उप-संपादकों, प्रूफ-रीडरों, रेडियो जॉकी, एंकर्स आदि की बहुत आवश्यकता है.
हिंदी भाषा में कैरियरअंतर्राष्ट्रीय लेखकों के कार्यों का हिंदी में अनुवाद तथा हिंदी लेखकों की कृतियों का अंग्रेजी और अन्य विदेशी भाषाओं में अनुवाद कार्य करना भी होता है. फिल्मों की स्क्रिप्ट को हिंदी-अंग्रेजी में अनुवाद करने का भी कार्य होता है.

यहां हैं संभावनाएं:
 गवर्नमेंट सेक्टर में
मीडिया-प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक
क्रिएटिव राइटिंग/एडवरटाइजिंग
एम्बेसीज साहित्य
एकेडमिक क्षेत्र में

प्रमुख संस्थान:
दिल्ली विश्वविद्यालय
लखनऊ विश्वविद्यालय
कानपुर विश्वविद्यालय
इंदौर विश्वविद्यालय
भारतीय विद्या भवन, नई दिल्ली
इंडिया गांधी नेशनल ओपन यूनिवर्सिटी (इग्नू), नई दिल्ली
इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मास कम्युनिकेशन, जेएनयू कैंपस, नई दिल्ली
जामिया मिलिया इस्लामिया, जामिया नगर, नई दिल्ली

वैश्विक भाषा के रूप में हिंदी:
हिंदी भाषा में कैरियर! हिंदी विश्व में चीनी भाषा के बाद सबसे ज्यादा बोली जाने वाली भाषा है. भारत और विदेश में करीब 50 करोड़ लोग हिंदी बोलते हैं तथा इस भाषा को समझने वाले लोगों की कुल संख्या करीब 90 करोड़ है. विदेशियों में भी भारत की संस्कृति को समझने की रुचि बढ़ी है. यही वजह है कि कई देशों ने अपने यहां भारतीय भाषाओं को प्रोत्साहन देने के लिए शिक्षण केंद्रों की स्थापना की है. भारतीय धर्म, इतिहास और संस्कृति पर विभिन्न पाठ्यक्रम संचालित करने के अलावा इन केंद्रों में हिंदी, उर्दू और संस्कृत जैसी कई भारतीय भाषाओं में भी पाठ्यक्रम  जाते हैं. हिंदी भाषा में कैरियर बनाना अब मुश्किल नहीं बस आपको अपने स्किल को सुधारने की जरूरत है .

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *