Migraine कारण,लक्षण, बचाव और उपचार

Migraine!!! दोस्तों आज दुनियाभर में लगभग  15-20% लोग Migraine से पीड़ित हैं.

Aksar-2 bold song and trailer

Migraine
Migraine एक ऐसी बीमारी जिसके मरीज दुनियाभर में लगातार बढ़ते जा रहे हैं. हमारे देश में भी माइग्रेन से पीड़ित लोगों की तादाद बढ़ती जा रही है. दोस्तों किसी भी बीमारी के पीछे हमारी दिनचर्या रहन-सहन के तरीके का बहुत बड़ा हाथ होता है. बात अगर माइग्रेन की करें तो सबसे बड़ा कारण जो आप इसके पीछे पाएंगे वह है भागदौड़ भरी जिंदगी. जो तनाव से भरपूर है, तनाव से बचने के लिए कई तरीके आजमाए सकते हैं. पर उससे मुक्त होने के लिए हम कोई उपाय नहीं करते. बस इन्हीं चीजों को नजर अंदाज़ करने से ये सभी चीजें माइग्रेन में बदलने लगती हैं.
दोस्तों ऐसा कुछ डॉक्टर्स का मानना है कि जब हम किसी नयी जगह जाते हैं तो सामान्य स्थिति से एकदम तनाव भरे माहौल में पहुंच जाते हैं, तो सबसे पहले हमारे सिर में दर्द बढ़ता है. कई मौकों पर ब्लडप्रेशर हाई होने लगता है. लगातार ऐसी स्थितियां आपके सामने बनने लगे तो समझिए आप Migraine के शिकार हो रहे हैं.
लेकिन समझने वाली बात यह है कि सिरदर्द तो बहुत आम बात है और इससे हर किसी का वास्ता है जिसके कई कारण हो सकते है.
दोस्तों माइग्रेन को आम बोलचाल कि भाषा में अधकपारी भी कहतें हैं, माइग्रेन में पूरे सिर में नहीं बल्कि कुछ हिस्सों में दर्द होता है कभी सिर का एक भाग ही दर्द करता है कभी दूसरा.

Migraine के लक्षण:Migraine

दोस्तों इसके शिकार व्यक्ति के सिर के आधे हिस्से में दर्द रहता है जबकि आधा दर्द से मुक्त होता है. दोस्तों जिस हिस्से में दर्द होता है पीड़ित व्यक्ति उसे बाँधने से लेकर दबाने तक हर तरह से दूर करने का प्रयास करता है. माइग्रेन मूल रूप से तो न्यूरोलॉजिकल समस्या है. इसमें रह-रहकर सिर में एक तरफ बहुत ही चुभन भरा दर्द होता है. दोस्तों माइग्रेन का दर्द कुछ घंटों से लेकर तीन दिन तक बना रहता है इसमें सिरदर्द के साथ-साथ गैस्टिक, जी मिचलाने, उल्टी जैसी समस्याएं भी हो सकती हैं.
माइग्रेन की समस्या ज्यादा बढ़ जाने पर पीड़ित को फोटोफोबिया यानी रोशनी से परेशानी और फोनोफोबिया यानी शोर से मुश्किल पेश आने लगती है. दोस्तों माइग्रेन अपने लक्षण पीड़ित को जकड़ने से पहले दे देता है. नींद न लेना, भूखे पेट रहना और पर्याप्त मात्रा में पानी न पीना जैसे इन छोटे-छोटे कारणों से भी आपको माइग्रेन की शिकायत हो सकती है.

Migraine के कारण:Migraine
दोस्तों असल में माइग्रेन का कोई एक कारण नहीं है बस कुछ स्तिथिया हैं जिनके कारण लोग इस बीमारी के चपेट में आ सकते हैं .ज्यादातर लोगों को भावनात्मक वजहों से माइग्रेन की दिक्कत होती है. इसीलिए जिन लोगों को हाई या लो ब्लड प्रेशर, ब्लड शुगर और तनाव जैसी समस्याएं होती हैं उनके माइग्रेन से ग्रस्त होने की आशंका बढ़ जाती है.
एलर्जी के कारण भी माइग्रेन हो सकता है और अलग-अलग लोगों में एलर्जी के अलग-अलग कारण हो सकते हैं. दोस्तों कुछ लोगों के लिए खाने-पीने की चीजें भी एलर्जी का कारण बन जाती हैं तो वहीं दूसरी तरफ कुछ लोगों को दूध और उससे बनी चीजें खाने से एलर्जी होती है तो कुछ के लिए साग-सब्जी एलर्जी का कारण हो सकती है. किसी को धूल से एलर्जी होती है तो किसी को धुएं से. इसलिए दोस्तों अगर आपको पता हो कि आपको किन चीजों से एलर्जी है तो उनसे बच कर रहें.

Migraine से बचाव:
दोस्तों हम आपको बतातें कि आखिर आपको माइग्रेन से कैसे बचना है. दोस्तों ये बहुत ही आम बीमारी है और किसी को भी हो सकती है लेकिन कुछ लोगों में इसका खतरा ज्यादा होता है. लेकिन दोस्तों आपको घबराने कि जरूरत नहीं है थोड़ी सी सावधानी रखकर आप इस बीमारी को खुद से दूर रख सकते हैं.ऐसा नहीं कि माइग्रेन लाइलाज बीमारी है. अगर आप माइग्रेन से परेशान हैं और आपको कुछ सूझ नहीं रहा है तो ध्यान रखें. थोड़ी सी सावधानी आपको माइग्रेन से मुक्ति दिला सकती है. दोस्तों इसके लिए बस आपको अपनी लाइफ स्टाइल में थोड़े बदलाव करने होंगे और खानपान को सही रखना होगा.

क्या न खाएं:Migraine
दोस्तों वैसे भी डिब्बाबंद चीजों से हर इंसान को दूर ही रहना चाहिए लेकिन अगर आपको माइग्रेन है तो आप डिब्बाबंद पदार्थों और जंक फूड का सेवन एकदम न करें. ऐसा करने से दोस्तों माइग्रेन और खतरनाक होता जाता है. जंक फूड में मैदे की मात्रा ज्यादा होती है इसलिए इसे कम से कम खाएं. इतना ही नहीं इनमें कई ऐसे रासायनिक तत्व पाए जाते हैं जो माइग्रेन को बढ़ा सकते हैं. हमारे पास कई अन्य विकल्प है जिसकी वजह से हम खुद को स्वस्थ रख सकते हैं.

Migraine में क्या खाएं:Migraine
दोस्तों अगर आपको माइग्रेन है तो नाश्ते में ताजा और सूखे फलों का खूब सेवन करें. लंच में उन चीजों का इस्तेमाल करें जिनमें प्रोटीन भरपूर मात्रा में हो. मसलन दूध, दही, पनीर, दालें, मांस और मछली आदि, दोस्तों ज्यादा मिर्च-मसाले वाली चीजों से परहेज करें.

Migraine से छुटकारा:

Migraine
दोस्तों हमारे पास हर बीमारी की दवा है, माइग्रेन की अचूक दवा है योग और ध्यान. दोस्तों अगर आप योग नहीं कर सकते हैं तो ध्यान करें. इससे आपका तनाव कम होगा. और तनाव कम होने से आपका डिप्रेशन दूर होगा. लेकिन ध्यान रहे आप जिस जगह पर योग कर रहे हैं वो प्रकाश से चकाचौंध वाली, तेज धूप, तेज गंध वाली नहीं होना चाहिए. दोस्तों अगर आप साथ  माइग्रेन के शिकार हैं तो आपको अच्छी नींद लेना चाहिए.

Migraine

दोस्तों बात बात पर अपने मन से कोई भी दर्दनिवारक गोली न लें. बल्कि किसी अच्छे न्यूरोलाजिस्ट को इस बारे में बताएँ और उनके बताए निर्देशों के अनुसार ही चलें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *