इस नवरात्र डोली चढ़कर आएंगी मां

दोस्तों शारदीय नवरात्र का शुभारंभ 21 सितंबर दिन गुरुवार से हो रहा है. इसलिए इस बार शारदीय नवरात्र में मां दुर्गा डोली चढ़कर आ रही हैं. हालांकि वह चरणायुद्ध वाहन (मुर्गा) पर सवार होकर विदा होंगी. दोस्तों ऐसा माना जाता है कि स्थापना के दिन के मुताबिक मां की सवारी बदल जाती है. हर वर्ष माता का वाहन अलग-अलग होता है. इस बार माता का आगमन डोली पर हो रहा है.

नवरात्र में भूल कर भी ना करें ये काम
नौ दिनों तक चलने वाले इस महापर्व में शक्ति की देवी मां दुर्गा के नौ स्वरूपों की आराधना होती है.

घटस्थापना मुहूर्त:
दोस्तों नवरात्र के पहले दिन घटस्थापना की जाती है इस शारदीय नवरात्र घटस्थापना का मुहूर्त सुबह 6 बजकर 12 मिनट से लेकर 8 बजकर 9 मिनट तक रहेगा. दोस्तों मुहूर्त के अंदर घटस्थापना करना उत्तम माना जाता है.

शैलपुत्री देवी:
शारदीय नवरात्र
नवरात्र के दौरान नौ दिनों तक भगवती के अलग-अलग रूपों की पूजा की जाती है. पहला दिन शैलपुत्री देवी भगवती के इस स्वरूप की पूजा-अर्चना करने से सुयोग्य वर की प्राप्ति व तपस्वी बनने की प्रेरणा मिलती है.

ब्रम्हचारिणी देवी:शारदीय नवरात्र
दूसरे दिन माता के इस स्वरूप की आराधना करने से लंबी आयु की प्राप्ति होती है.

चंद्रघटा देवी:शारदीय नवरात्र
तीसरे दिन के इस स्वरूप में देवी चंद्रमा को सिर पर धारण करती है. इस रूप की आराधना करने से माता व भगवान शिव प्रसन्न होते है.

कुषमांडा देवी:
शारदीय नवरात्र
चौथे दिन कुषमांडा देवी की पूजा करने से धन-धान्य और फसलों के उत्पादन में काफी वृद्धि होती है.

स्कंदमाता:
शारदीय नवरात्र

पांचवें दिन भगवती के इस स्वरूप की आराधना से पुत्र की प्राप्ति होती है और मां लंबी उम्र का भी आशीष देती हैं.

कात्यायनी देवी:शारदीय नवरात्र

यह भगवती महालक्ष्मी का रूप है. इनकी आराधना करने से धन-धान्य और सुख समृद्धि की प्राप्ति होती है.

कालरात्रि देवी:शारदीय नवरात्र
सांतवें दिन इस स्वरूप की आराधना करने से संकट से मुक्ति मिलती है. इस दिन निशा पूजा भी की जाती है.

महागौरी देवी:शारदीय नवरात्र
आठवें दिन मां के इस स्वरूप की पूजा करने से दापत्य जीवन सुखमय होता है.

सिद्धिरात्रि देवी:शारदीय नवरात्र
नौवें दिन मां के इस स्वरूप की आराधना से सभी प्रकार के फलों की प्राप्ति होती है, साथ ही भक्तों को सिद्धि की प्राप्ति भी होती है.

दोस्तों तो इस शारदीय नवरात्र मां दुर्गा आपके घर -परिवार पर बनी रहे . Happy Navratri.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *